Header Ads

प्रोग्राम्ड यूनिवर्स 6

www.ashfaqansari.in

बिना सपोर्टिंग टूल्स के आत्मा का अस्तित्व नहीं हो सकता

  अब इसे खुद के शरीर से समझियेक्या आप आंख बंद करके देख सकते हैं, मुंह बंद कर के बोल सकते हैं, कान बंद कर के सुन सकते हैं? जाहिर है नहींक्योंकि देखने, बोलने, सुनने के लिये आपको इन अंगों की जरूरत है तो मरने के बाद अगर आपका शरीर यहीं नष्ट हो जाना है तो आत्मा के पास देखने, सुनने, बोलने के लिये अंग कहां से आयेंगे? इसलिये आत्मा, भूत, प्रेत सिर्फ इंसानी वहम है, इससे ज्यादा और कुछ नहीं।

  हां अगर चेतना को ऊर्जा के तौर पर डिफाईन किया जाये तो ऊर्जा का नियम उसपे भी अप्लाई करना पड़ेगा कि वह न पैदा होती है, न नष्ट होती है, सिर्फ ट्रांसफर होती है। पैदा होने को हम समझ सकते हैं कि जीते जी अपने शरीर में ही हम कोशिका विभाजन के अंदाज में अपनी ऊर्जा के एक छोटे हिस्से को शुक्राणु या अंडाणु के रूप में डिवाइड कर देते हैं जो बाद में एक गर्भ के रूप में स्वतंत्र इकाई बन जाती है, लेकिन तब दो सवाल खड़े हो जायेंगे कि पहली चेतना कहां से आई और मरने के बाद यह किस रूप में ट्रांसफर होती है।
www.ashfaqansari.in
Paranormal illusion
  बहरहालपैरानार्मल एक्टिविटीज तो होती ही हैं और इन पर दुनिया भर में रिसर्च भी होती है। आधुनिक यंत्रों से इन्हें डिटेक्ट भी किया जाता है लेकिन इनका कोई भी संतोषजनक जवाब अभी तक ढूंढा नहीं जा सका। धार्मिक लोगों से इतर हम कुछ संभावनाओं पर विचार जरूर कर सकते हैं।

  कई बार आपने महसूस किया होगा कि फेसबुक या व्हाट्सएप पर हम लाईक कमेंट कहीं करते हैं और वह हो कहीं और जाते हैंयह चूँकि एक मैकेनिकल ऑब्जेक्ट से जुड़े हैं तो हम इन्हें टेक्निकल एरर कह सकते हैं, जो कभी फोन के ठीक से फंक्शन न करने पर होते हैं तो कभी एप्स केजबकि किसी गैजेट से बाहर ऐसी ही चीजों को हम आत्मा भूत प्रेत या थोड़ी कायदे की भाषा में पैरानार्मल एक्टिविटीज के तौर पर जानते हैं।
https://gradias.in/product/इनफिनिटी-द-साइकिल-ऑफ़-सिवि/

पैरानार्मल एक्टिविटीज को सिस्टम एरर भी ख सकते हैं

  असल में यह पैरानार्मल एक्टिविटीज भी टेक्निकल एरर हो सकती हैं क्योंकि हम सिर्फ धातु से बनी चीजों को ही सिस्टम समझने के आदि हैं, जबकि टाईप थ्री या फोर सिविलाइजेशन के टाईम जब हम इन चीजों को अपने हिसाब से गढ़ सकेंगेतब समझ पायेंगे कि यह पेड़ पौधे, बारिश, आंधी तूफान, जीव जंतु, इंसान सबकुछ सिस्टम ही है और सिस्टम है तो उसमें टेक्निकल एरर की संभावना भी बनी ही रहती है।
www.ashfaqansari.in
Paranormal Activity
  या इसे यूँ मान लें कि असल में 'वक्त' एक भ्रम हैहम कई यूनिवर्स में एक साथ कई रूपों में जी रहे हैं और किसी तरह एक दूसरे से अटैच हैंयहां भूत, वर्तमान, भविष्य अलग-अलग नहीं, बल्कि एक साथ चल रहे हैं और हमारे आसपास हर पल चेंजेस हो रहे हैं, जिसे हम समझ नहीं पाते। मान लीजिये यह पूरा सिस्टम 'फेसबुक' है... यहां हम भूत, वर्तमान, भविष्य (इवेंट में) सब जगह दर्ज हैं। फिर हम आईडी डिएक्टिवेट करते हैं, या वह परमानेंट सस्पेंड हो जाती हैतो उसका लाईक, कमेंट, शेयर या इवेंट अटेंडिंग, हर जगह से एग्जिस्टेंस यूँ खत्म हो जाता है, जैसे वह कभी था ही नहीं।

  या हमारे बीच की कोई डिएक्टिवेटेड आईडी फिर से सालों बाद एक्टिवेट हो जाती है, जिसे हम भूल चुके थे तो हम अपनी किसी पुरानी पोस्ट पे उसका कमेंट देख कर हैरत में पड़ जाते हैं। इसी तरह अपने सिस्टम को मान लीजियेमान लीजिये हम भूत भविष्य और वर्तमान तीनों फ्रेम में एक साथ एग्जिस्ट कर रहे हैं और हमारे ही किसी एक्शन से बार-बार कुछ न कुछ परिवर्तन हो रहा है और हम उसे ठीक से समझ नहीं पा रहेजैसे हम फिल्म की तरह तयशुदा सिक्वेंस देखते हैं, जबकि वीडियो गेम में उसी फार्मेट में सिक्वेंस में फेरबदल हो पाना संभव हो जाता है। यह छोटे मोटे फेरबदल हो सकता है कि वाकई हमारे आसपास हो रहे होंअगर हम एक सिस्टम हैं, प्रोग्राम हैं तोफिर उस कंडीशन में यह फेरबदल भी पैरानार्मल एक्टिविटीज का आधार हो सकते हैं।
https://gradias.in/product/गिद्धभोज/

पैरानार्मल एक्टिविटीज बहुयामी सभ्यता की वजह से भी हो सकती है

  दूसरी संभावना के तौर पर हम इसे एक और तरह से देख सकते हैं कि इंसान किसी गैजेट के थ्रो पांचवे आयाम का प्रयोग करते हुए अतीत में या भविष्य में आ जा तो सकता हैअपने आप के समेत घटनाओं को सामने घटते देख सकता है लेकिन खुद से वहां किसी भी घटना पर न प्रभावी हो सकता है न वहां मौजूद लोगों द्वारा देखा जा सकता हैबावजूद इसके वह सीमित दायरे में अपने होने के संकेत दे सकता है...

  इसे इंटरस्टेलरमूवी में देख के समझ सकते हैं जहां कूपर अतीत में वहां पंहुचता है जहां से फिल्म की कहानी शुरु हुई थी और बाईनरी/मोर्स कोड में अपनी बात कहता है जबकि सदृश रूप में वह खुद ही उन किताबों के गिरने को वहम ठहराता है और बेटी मर्फ यह कहती है कि नहीं, यह आप हैं जो कुछ कहने की कोशिश कर रहे हैं और अंत में वह उस संदेश को पकड़ने में कामयाब हो जाती है।
  तीसरी संभावना वही हो सकती है जो पहले बताईचींटियों की टू डायमेंशनल दुनिया में हम थ्री डायमेंशनल जीवों द्वारा किया गया हर एक्ट उनके लिहाज से पैरानार्मल एक्टिविटीज ही होगा। ऐसा ही हमारे साथ भी हो सकता है कि किसी और आयाम में रहने वाले जीवों की हर एक्टिविटी हमारे लिये पैरानार्मल एक्टिविटी हो सकती है।

  चौथी संभावना में हम उन जीवों या चीजों को फिट कर सकते हैं, जिनका उदाहरण पहले दिया थायानि इस गति से हरकत करने वाली कोई चीज जिसे हम देख ही न सकें और देख नहीं सकते तो फिलहाल उनका एग्जिस्टेंस ही हमारे लिये कल्पना भर है लेकिन साथ ही एक सच यह भी है कि हम अभी अपनी दुनिया को समझने के नाम पर बहुत शुरुआती स्टेज में हैं और होने को कुछ भी हो सकता है जो हमारी समझ, हमारे ज्ञान और हमारी संभावनाओं से ही परे हो। 
www.ashfaqansari.in
Multidimensional Space

  स्पेस में दिलचस्पी रखने वाला लगभग हर इंसान इस उलझन से जरूर दो चार होता है कि क्या हम ब्रह्मांड में अकेले हैं या फिर हमारे जैसी और भी सभ्यतायें हैं। अगर हैं तो कैसी हैंयह बहुत बड़ा रोमांच है जिस पर दुनिया भर में ढेरों किताबें लिखी गयीं और हॉलीवुड वालों ने बहुतेरी फिल्में बनाई हैं। यह शायद उनका सबसे पसंदीदा सब्जेक्ट है।
https://gradias.in/product/गॉड्स-एग्ज़िस्टेंस/
Written by Ashfaq Ahmad

No comments