Header Ads

Kindle aur Smashword pe E-Book kaise Publish karen- किंडल और स्मैशवर्ड पे ईबुक कैसे पब्लिश करें (Part 2)

https://ashfaqansari.in

किंडल पे ईबुक कैसे पब्लिश करें/ Kindke pe E-Book kaise Publish karen



इन दो जगहों के बाद अब सबसे इम्पोर्टेंट प्लेटफार्म है किंडल, जहाँ मिलने वाले रीव्यू आपकी किताब की सेल को बूस्ट कर सकते हैं। अमेजाॅन के रीव्यू ही किसी किताब की रैंकिंग में सबसे ज्यादा प्रभाव डालते हैं। तो किंडल पे अपनी ईबुक पब्लिश करने के लिये सबसे पहले आपको किंडल के साईनअप पेज पे आना होगा।

https://ashfaqansari.in
Process of adding book

सबसे पहले साईन अप के बटन पे क्लिक कीजिये, कोई अमेजाॅन का पहले से अकाउंट है तो आगे उससे लाॅगिन कर लीजिये और नहीं है तो नीचे क्रियेट अकाउंट के ऑप्शन पे जा कर नाम, मेल आईडी और पासवर्ड भर कर क्रियेट कर लीजिये। उनकी टर्म्स एंड कंडीशन एग्री करते हुए "बुकशेल्फ" में आ जाइये।

यहाँ आपसे प्रोफाईल अपडेट करने को कहा जायेगा जो आप पहले कर लीजिये। ओटीपी से फोन नंबर वेरिफाई कर के, अपनी बैंक डिटेल और पैन कार्ड नम्बर भर दें और यह प्रोसेस पूरा कर के बुकशेल्फ में आयें। यहां आपको दो ऑप्शन दिखेंगे, किंडल ईबुक और पेपरबैक... पेपरबैक में आप चाहें तो अपनी स्क्रिप्ट लोड कर सकते हैं, वह अमेजाॅन के पास पब्लिश ऑन डिमांड मोड में लाईव रहेगी, यानि जैसे ही कोई ऑर्डर हुआ, तो वे उसे प्रिंट कर के पहुंचा देंगे।

लेकिन यह सुविधा भले पंद्रह-बीस भाषाओं के लिये है लेकिन हिंदी के लिये नहीं है तो अगर आपकी किताब अंग्रेजी में है तो ही इस ऑप्शन पे जायें वर्ना ईबुक के ऑप्शन पे आ जायें। यहां तीन टैब का एक पेज खुलेगा, जिसमें पहला टैब ईबुक डिटेल का होगा,  जहाँ काफी ध्यान से आपको सारी डिटेल भरनी होगी।
सबसे पहले किताब की भाषा चुनें, फिर किताब का टाईटल और अगर कोई सब टाईटल है तो वह भी। सीरीज और एडिशन नम्बर की आपको जरूरत नहीं, कंट्रीब्यूटर अगर कोई है तो उसकी डिटेल दे दीजिये। फिर किताब का बढ़िया सा लांग डिस्क्रिप्शन लिखिये।  पब्लिशिंग राईट्स में "ओन" पे टिक कीजिये। फिर सात ऐसे कीवर्ड्स चुनिये जिनके सहारे आपको लगता है कि लोग गूगल पे सर्च कर सकते हैं। यह सबसे इम्पोर्टेंट फीचर है।

इसके बाद अपनी किताब के हिसाब से कोई दो कैटेगरी चुनें। अगले एज एंड ग्रेड ऑप्शन को छोड़ दें। नीचे "आई एम रेडी" पे टिक कर के सेव एंड कांटीन्यू कर दें।

अगले टैब में सबसे ऊपर डीआरएम यस, नो जो भी करें, नीचे वर्ड फाईल के रूप में मनुस्क्रिप्ट अपलोड कर दें। इसके बाद कवर के लिये दो ऑप्शन मिलते हैं कि चाहें तो खुद का पहले से बनाया कवर अपलोड करें या किंडल के कवर क्रियेटर टूल का उपयोग करते हुए यहीं पे कोई कवर बना लें। प्रीव्यू देखना चाहें तो देख सकते हैं या रहने दें। नीचे आईएसबीएन नम्बर को छोड़ दें, किंडल खुद कोई ASIN नम्बर जनरेट कर देगा। पब्लिशर के खाने में कोई नाम देना चाहें तो दे सकते हैं। फिर सेव एंड कांटीन्यू पे क्लिक कर दें।

https://ashfaqansari.in
Completion of process

अगला टैब प्राइसिंग का है... यहाँ केडीपी में एनरोल चाहे न ही करें, क्योंकि तब उनकी कई शर्तें लग जाती हैं। टैरेट्रीज में ऑल टैरेट्री रखें.. राॅयल्टी में हालांकि दो ऑप्शन मिलते हैं लेकिन 70% वाला ऑप्शन 100 रुपये से ऊपर के प्राईस पे इनेबल होगा और उसमें भी कई खर्च और टैक्स कट किये जाते हैं, जबकि 35% वाले ऑप्शन में आपको वह पूरा हिस्सा मिलता है। बेहतर है कि 35% के साथ ही जायें।

यहाँ आपको भारत समेत 12 और मार्केटप्लेस मिलते हैं। अब चाहें तो एक ग्लोबल प्राईस भी रख सकते हैं और चाहें तो अलग-अलग मार्केटप्लेस के हिसाब से भी प्राईस सेट कर सकते हैं लेकिन यहाँ आपको कीमत मिनिमम 49 रुपये रखनी ही होगी।

नीचे लेंडिंग के लिये बुक अलाऊ करनी है या नहीं, यह आपके कंटेंट और इच्छा पर निर्भर करता है। इसके बाद आप फाईनली "पब्लिश योर किंडल बुक" पे क्लिक कर दें। 72 घंटे के भीतर आपकी बुक किंडल के प्लेटफार्म पर लाईव हो जायेगी। कोई संशोधन बाद में भी करना चाहें तो कर सकते हैं लेकिन यह फीचर बुक लाईव हो चुकने के बाद ही खुलता है।

फ़ाइल को ईपब फार्मेट में कैसे कन्वर्ट करें/ File ko ePub format me kaise convert karen 

अब अंत में आता है स्मैशवर्ड, जहाँ से आप एकसाथ कोबो, एपल, बार्नेस एंड नोबल और सोनी जैसे वर्ल्ड लेवल प्लेटफॉर्म्स तक अपनी किताब पहुंचा सकते हैं लेकिन स्मैशवर्ड के लिये सबसे जरूरी चीज है अपनी वर्ड फाईल को ईपब फाईल में कनवर्ट करना। इसके लिये आपको सबसे पहले यहाँ से कैलिब्रे डाउनलोड करना होगा। फाईल कनवर्शन के लिये कैलिब्रे सबसे जरूरी है।

https://ashfaqansari.in
Convertion of epub


अब कैलिब्रे जब ओपन करेंगे तो इस तरह का इंटरफेस खुलेगा। यहां लेफ्ट कार्नर में दिये "एड बुक्स" के ऑप्शन से आप वर्ड फाईल इम्पोर्ट करेंगे, फिर उसे सलेक्ट किये हुए कनवर्ट पे क्लिक करेंगे। यहां आपको मेटाडाटा फिल करना है, मसलन राईट कार्नर में आउटपुट फार्मेट "ईपब", नीचे ऑथर, पब्लिशर, टैग्स और शार्ट डिस्क्रिप्शन आदि भर के, सेंटर में दिये ऑप्शन से कवर अपलोड करें और ओके कर दें।

फाईल अपलोड हो चुकने के बाद ऊपर एडिट मेटाडाटा पर क्लिक करेंगे तो एडिट पेज खुल जायेगा, जहाँ कुछ बाद में भरी जाने वाली इनफार्मेशन फिल कर सकते हैं। टाईटल, ऑथर आदि सही कर के चाहें तो रेटिंग दे लें, टैग्स दुरुस्त कर लें, आईडी में अगर कोई आईएसबीएन है तो दे दें या बाद में स्मैशवर्ड से ले कर वापस एडिट करके बाद में भर सकते हैं। पब्लिश्ड डेट, पब्लिकेशर, भाषा आदि सेट कर के राईट साईड में लांग डिस्क्रिप्शन भर कर ओके कर दें। यह फाईल आपके सिस्टम में आप जहाँ चाहे, सेव टु डिस्क के ऑप्शन पे जा कर सेव कर सकते हैं।

स्मैशवर्ड पे ईबुक कैसे पब्लिश करें/ Smashword pe E-Book kaise Publish karen


अब आइये स्मैशवर्ड पे... सबसे पहले आपको साईन अप का प्रोसेस पूरा करना है। प्रक्रिया लगभग समान ही है, सभी जरूरी इनफार्मेशन भरनी हैं, बैंक डिटेल और पैन नम्बर भरना है, अकाउंट टाईप इंडीविजुअल ही रखना है। यहां एक लेखक के तौर पर आपको काफी स्पेस मिलता है अपने बारे में बताने का और अपने सभी सोशल मीडिया लिंक्स प्रोफाईल में अटैच करने का।

https://ashfaqansari.in
How to add book

ऊपर मौजूद फंक्शनल पट्टी में डैशबोर्ड के ऑप्शन में आपको लगभग सभी जरूरी चीजें मिलती हैं और "पब्लिश" के ऑप्शन पर जा कर आप अपनी किताब अपलोड कर सकते हैं।

यहाँ सबसे पहले टाईटल भरना है, "फार इमिडियेट रिलीज" पर टिक करते हुए नीचे बुक डिस्क्रिप्शन लिखना है... पहले लांग और फिर शार्ट। बुक लैंग्वेज सलेक्ट करनी है, यहाँ प्राईज आपको डाॅलर में भरना है जो मिनिमम 0.99 होना चाहिये। सैम्पलिंग चाहे तो इनैबल करें या डिसेबल कर दें। इनैबल रखें तो 10 या 20% सैम्पल ही रखें। फिर दो कैटेगरी चूज करें.. एडल्ट कंटेंट के ऑप्शन में विषय के हिसाब से यस या नो करें और बाॅक्स सेट है या नहीं तो यहाँ नो पे ही रखें। टैग के ऑप्शन में सात आठ वह टैग दे दें जो आपकी किताब से सम्बंधित हों और कीवर्ड्स का काम करें।
https://ashfaqansari.in
Process for adding book

तत्पश्चात कवर अपलोड करें, उसके बाद ईपब फाईल अपलोड करें। सबसे लास्ट में पब्लिशिंग एग्रीमेंट सेक्शन में एग्री पर टिक कर के पब्लिश कर दें। थोड़ा वक्त ले कर बुक पब्लिश हो जायेगी। हाँ प्रीमियम कैटेलाॅग में लिस्टेड होने में थोड़ा वक्त लेगी मगर हो जायेगी। अगर कोई त्रुटि होगी तो वहीं मेंशन कर दी जायेगी जिसे आप कैलिब्रे पे ही एडिट कर के न्यू वर्शन के रूप में अपनी ईपब फाईल अपलोड कर सकते हैं।

बुक प्रमोशन कैसे करें/ Book Promotion kaise karen 


उसके लिये सबसे पहले बुक के विषय को ध्यान में रखते हुए शार्ट, लांग डिस्क्रिप्शन आदि तैयार कीजिये और प्रमोशन काफी हद तक आपके नेटवर्क और सोशल मीडिया पर आपकी कनेक्टिविटी पर डिपेंड करता है। तो सबसे पहली चीज तो यही है कि अपनी वाल पर पोस्ट करके लोगों को किताब के बारे में बताइये, जितने ग्रुप्स में एड हैं उनमें पोस्ट या शेयर कीजिये।
यहाँ एक चीज यह जरूर ध्यान रखें कि शाॅपिंग के लिये एक ही लिंक दें, जो अमेजाॅन का हो तो ही बेहतर है क्योंकि वहां लोग किताब को रीव्यू दे सकते हैं और अमेजाॅन के रीव्यू ही किताब की रैंकिंग को बूस्ट देते हैं। एक बार किताब चर्चा पा गयी तो उस विषय में रूचि रखने वाले पाठक खुद ही अदर प्लेटफार्म्स से खरीद सकते हैं। रीव्यू के लिये आप अपने सर्कल के उन दोस्तों या पहचान वालों से रिक्वेस्ट कर सकते हैं जो वहां एलिजिबल हों। उनकी एलिजिब्लिटी का आधार छः महीने में कम से कम 1500 की खरीद है, फिर चाहे उन्होंने वह प्रोडक्ट लिया हो या न लिया हो।

फेसबुक पर प्रमोशन के लिये एक पेज होना बहुत जरूरी है, जिसके सहारे आप अपनी किताब का एक विज्ञापन बना कर उसे चला सकते हैं। यहां फेसबुक आपको अपने रीडर्स को टार्गेट करने के लिये काफी डिटेल्ड ऑप्शन देता है और आप उनकी एज, डेमोग्राफी, इंटरेस्ट, बिहैवियर और लोकैलिटी के हिसाब से उनको टार्गेट कर सकते हैं।

फेसबुक के सिवा आप इंस्टाग्राम पर अगर अकाउंट रखते हैं तो उसे बिजनेस अकाउंट में कनवर्ट कर लीजिये, जिससे आप फेसबुक की तर्ज पर ही अपनी किताब के विषय के हिसाब से पाठकों को टार्गेट करते हुए विज्ञापन बना सकते हैं। प्रमोशन के लिये ट्विटर का भी उपयोग कर सकते हैं.. अपनी लिस्ट के सेलेब्स टाईप लोगों को टैग करते हुए इस तरह पोस्ट करें कि वह उनकी वाल तक पहुंचे, या उनके ट्वीट के रिप्लाई में भी हैशटैग का सहारा लेते हुए अपनी किताब के बारे में बता सकते हैं, या उसका लिंक दे सकते हैं।
इन माध्यमों के सिवा आप गूगल से सर्च करके उस स्पेसिफिक विषय के ब्लाॅग्स सर्च कर सकते हैं, जिस पर आपने किताब लिखी है और वहां कमेंट में लोगों को अपनी किताब के बारे में बताते हुए लिंक दे सकते हैं। ठीक ऐसा ही आप यूट्यूब पर कर सकते हैं, उस विषय से सम्बंधित सभी वीडियोज के कमेंट बाॅक्स में अपनी किताब के बारे में बताते हुए लिंक दे सकते हैं और इस मामले में कोरा नाम की वेबसाइट आपकी और मदद कर सकती है जहाँ अपने विषय से सम्बंधित सभी सवालों के जवाब में आप लिंक समेत अपनी किताब के बारे में बता सकते हैं।

इससे आगे बढ़ कर आप चाहें तो किन्हीं प्रोफेशनल्स की मदद ले कर आप बल्क एसएमएस और बल्क ई-मेल्स के जरिये भी लाखों लोगों तक अपनी किताब की जानकारी पहुंचा सकते हैं। इतना सब करने के बाद भी अगर किताब को बहुत अच्छा रिस्पांस नहीं मिलता तो हताश होने की जरूरत नहीं... नये लेखक को पहचान बनाने में थोड़ा वक्त लगता ही है। आप अगली बार और बेहतर ढंग से कोशिश कर सकते हैं।

 
Written by Ashfaq Ahmad

No comments